गुनहगार

कभी कभी जिंदगी आपको कितनी अजीब लगती है,
क्या खोया क्या पाया के हिसाब में ,
हम अपनी मासूमियत को खो देते है ।
मैं नहीं कहती की मैं सही हुॅ , पर गलत भी नहीं ,
मुझे उस चीज की सजा तो मत दो,
जिस पर मेरा
अख्तियार नहीं।
क्यों हमसें मुस्कराने का हक़ भी छीन लिया,
इतने तो हम गुनहगार नहीं ॥

woman looking at sea while sitting on beach
Photo by Pixabay on Pexels.com

One thought on “गुनहगार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s